Skip to main content

जुम्मे की नमाज के लिए राज्य सभा से खत्म हुआ 60-70 साल से चल रहा 30 मिनिट का समय।

 जुम्मे की नमाज के लिए राज्य सभा से खत्म हुआ 60-70 साल से चल रहा 30 मिनिट का समय। 



डीएमके के सांसदों ने राज्यसभा में मुस्लिमों के लिए जुम्मे की नमाज के ब्रेक का मुद्दा उठाया। ये अलग बात है कि उन्हें उप राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने एक मिनट में सही राह दिखा दी और बिना किसी हंगामे के राज्यसभा की कार्यवाही को भी जारी रखा।

राज्यसभा के सभापति जयदीप धनखड़

राज्यसभा के सभापति जयदीप धनखड़ (फोटो साभार : Youtube_SansadTV)

तमिलनाडु की सत्ताधारी पार्टी डीएमके के सांसदों ने 8 दिसंबर 2023 को राज्यसभा में मुस्लिम सांसदों के लिए जुम्मे की नमाज के ब्रेक का मुद्दा उठाया। इस पर उप-राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने बताया कि 60-70 साल से चले आ रहे नियम में बदलाव हो चुका है। लोकसभा की तरह अब राज्यसभा में ये ब्रेक नहीं दिया जाएगा।


ये पूरा मामला 8 दिसंबर 2023 का है। जब राज्यसभा में जीरो ऑवर चल रहा था और सांसद अपने सवालों के जवाब पूछ रहे थे। तभी डीएमके के सांसद तिरुची शिवा ने हस्तक्षेप किया। उप राष्ट्रपति जयदीप धनखड़, जो राज्यसभा के सभापति भी हैं, वो सदन में पीठाधीन थे। तिरुची शिवा को सभापति ने बोलने का अवसर दिया, तो उन्होंने शुक्रवार के दिन राज्यसभा के कामकाज की समयसीमा को लेकर सवाल पूछा।


डीएमके सांसद तिरुची शिवा ने कहा, “सामान्य तौर पर शुक्रवार के दिन सभा का कामकाज लंच ब्रेक के बाद 2.30 बजे शुरू होता है, लेकिन आज के संशोधित कार्यक्रम के अनुसार ये 2 बजे से ही है। इस बारे में निर्णय कब लिया गया? इस बारे में सदन के सदस्य नहीं जानते, ये बदलाव क्यों हुआ?”


इस सवाल के जवाब में सभापति ने कहा, “सम्माननीय सदस्यगण, ये बदलाव आज से नहीं है। ये बदलाव पहले ही मेरे द्वारा किया जा चुका है, इसकी वजह भी बताई जा चुकी है। लोकसभा में कार्यवाही 2 बजे से होती है। लोकसभा और राज्यसभा दोनों ही संसद का हिस्सा हैं। दोनों के ही काम के समय में समानता हो, इसलिए मैंने पहले ही इस बारे में नियम बना दिए थे। ये कोई पहली बार नहीं है।”


इसके बाद सभापति ने आप सांसद विक्रमजीत सिंह साहनी को अपना मुद्दा सदन के पटल पर रखने को कहा, जैसे ही वो बोलने के लिए खड़े हुए, तभी डीएमके के मुस्लिम राज्यसभा सांसद एम. मोहम्मद अब्दुल्ला ने हंगामा मचाने की कोशिश की। हालाँकि उप राष्ट्रपति ने सभी सदस्यों को शांत कर दिया और मोहम्मद अब्दुल्ला को बोलने के लिए कहा।


मोहम्मद अब्दुल्ला ने कहा, ‘ये पिछले 60-70 सालों का रिवाज (शुक्रवार को 2.30 बजे से सदन की कार्यवाही) है’। इसके बाद हंगामे की स्थिति बनती है, लेकिन उपराष्ट्रपति सबको शांत करा देते हैं, और फिर अब्दुल्ला को बोलने के लिए कहते हैं, जिसके बाद अब्दुल्ला कहते हैं, “सर, 2.30 बजे का समय पहले से निर्धारित है, मुस्लिम सदस्यों के लिए उनके जुम्मा (शुक्रवार) के लिए। यही परंपरा है।” इसके बाद सभापति ने उन्हें रोका और कहा कि वो समझ गए हैं।


सभापति ने कहा, “मैं आपका मतलब समझ गया। आप सभी लोग शांत रहें। माननीय सदस्यगण, लोकसभा और राज्यसभा दोनों ही सदन के सदस्य समाज के सभी वर्गों से आते हैं। लोकसभा 2.00 बजे दोपहर में बैठती है, जिसमें सभी वर्गों के सदस्य हैं। मैंने उसी तर्ज पर पिछले साल ही इस बारे में नियम बना दिए थे, जिसमें लंच ब्रेक के बाद सदन की कार्यवाही 2.00 बजे से शुरू करनी थी। ठीक लोकसभा की तर्ज पर।” इसके बाद उन्होंने विक्रमजीत सिंह साहनी को बोलने के लिए समय दे दिया और डीएमके-इंडी अलायंस के प्रोपेगेंडा की हवा निकालते हुए सदन की कार्यवाही सुचारू रुप से जारी रखी।


देखें सदन की कार्यवाही का वीडियो, जिसमें शुरुआती 20 सेकंड के बाद ही ये मुद्दा उठा है।




उपराष्ट्रपति ने कम ही शब्दों में सभी को समझा दिया कि ये संसद का सदन है। दोनों सदनों की कार्यवाही का समय एक बराबर है। किसी को लोकसभा में समस्या नहीं है, तो यहाँ अब कैसे होने वाली है? ये नियम भी आज का नहीं बना, बल्कि पिछले साल का ही बना है। अभी तक किसी को कोई समस्या नहीं हुई।


खास बात ये है कि राज्यसभा में ये मुद्दा उठा कौन रहा है? डीएमके के ही दोनों सांसद, जिनकी पार्टी खुलेआम सनातन का विरोध करती है और वो इंडी अलायंस का प्रमुख सहयोगी दल भी है। ऐसे में उप राष्ट्रपति ने एक ऐसे मामले की हवा तुरंत ही निकाल दी, जिसे इंडी अलायंस बड़ा मुद्दा बनाने की कोशिश कर रही थी।

Comments

Popular posts from this blog

rajasthan map

  rajasthan map rajasthan map : blank rajasthan map rajasthan map pdf : rajasthan map image rajasthan map hindi : district rajasthan map rajasthan map with districts : rajasthan map hd rajasthan map political : rajasthan map blank rajasthan map अंग्रेजी में : rajasthan map इन हिंदी rajasthan map blank rajasthan map rajasthan map image   rajasthan map hindi district rajasthan map rajasthan map with districts rajasthan map hd   rajasthan map political rajasthan map blank rajasthan map अंग्रेजी में rajasthan map इन हिंदी

current gk 2022 hindi PDF ।। daily current affairs 2022 hindi PDF

  current affairs 2022 in hindi PDF daily current affairs 2022 in hindi PDF

राजस्थान रत्न’ पुरस्कार - 2022 से सम्मानित व्यक्ति

  ‘राजस्थान रत्न’ पुरस्कार - 2022 से सम्मानित व्यक्ति  मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विभिन्न क्षेत्रों में अपने उत्कृष्ट व असाधारण कार्यों से देश विदेश में राजस्थान को गौरवान्वित करने वाली 6 विभूतियों को राजस्थान रत्न पुरस्कार - 2022 से नवाजा है। पुरस्कार प्राप्त करने वाले व्यक्ति :- न्याय के क्षेत्र से :- न्यायधीश दलवीर भंडारी (अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय में नियुक्त) आरएम लोढ़ा (भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश)  उद्योग के क्षेत्र से :- अनिल अग्रवाल (वेदान्ता ग्रुप के चेयरमेन) एलएन मित्तल (आर्सेनल मित्तल के चेयरमेन) कला के क्षेत्र से :- केसी मालू (प्रसिद्ध निर्माता)  शीन काफ निजाम (प्रसिद्ध उर्दू शायर)  Note :- राजधानी जयपुर में आयोजित इन्वेस्ट राजस्थान समिट में इन सभी को प्रशस्ति पत्र, शॉल, मोमेन्टो व एक लाख रुपए की पुरस्कार राशि से सम्मानित किया। ‘राजस्थान रत्न’ पुरस्कार ● जिस प्रकार भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न पुरस्कार’ है। उसी प्रकार राजस्थान का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘राजस्थान रत्न पुरस्कार’ है। ● ‘राजस्थान रत्न पुरस्कार’, राजस्थान सरकार द्वारा दिया जाने वाला सर्वोच्च पुरस्